blogid : 3028 postid : 883590

मॉडर्न मां

Posted On: 12 May, 2015 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कविता

-रवि प्रकाश मौर्य

कलयुग के समय में

सतयुगी बच्चों की उम्मीद बेमानी है
कलयुग है तो
मांएं एवं बच्चे भी कलयुगी होंगे
इसी कलयुगी समय में
डिब्बाबंद दूध पीकर बड़े हुए बच्चे ने
एक दिन मां से पूछ लिया
मैं क्यों निभाऊं बेटे का फर्ज
मुझ पर तो नहीं दूध का कर्ज
तुमने मुझे पैदा किया…
अपने सुख की खातिर
तुमने मेरा गू-मूत भी नहीं किया
पहना दी नैपी, और
छोड़ दिया क्रेच में…
अपने काम पर जाने के लिए
मुझे कभी लाड़ किया, न दुलार
खिलौनों से खेल बड़ा हुआ मैं
उंगली पकड़ न चलना सिखाया तुमने
वाकर से चलना मैंने सीखा
कभी बांहों का झूला नहीं झुलाया तुमने
पालने में झूल मैं सोया
थोड़ा बड़ा हुआ तो
डाल दिया बोर्डिंग में
मैंने कभी जाना ही नहीं
कि क्या होती है ‘मां’
मैं कैसे मानूं तुम्हें अपनी मां
आखिर क्या किया तुमने मेरी खातिर
तुम्हारे अंतरंग क्षणों का प्रतिफल हूं मैं
तुमने मुझे पैदा किया अपने लिए
क्योंकि नहीं होता यदि मैं
तुम कहलाती बांझ, और
उपेक्षित होती समाज में
….
सदियों बाद किए गए
इन कलयुगी सवालों का
कोई जवाब नहीं था मां के पास
वह खामोश थी
रिश्तों के नए समीकरण से।

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments




latest from jagran